(EnB.1) Prelims-2018: Int’l Environmental Organizations & Conventions Part-1 (पर्यावरण से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय संगठन एवं सम्मेलन भाग-1)

1. संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (United Nations Environment Programme, UNEP)

UNEP

  • इसकी स्थापना 1972 में की गई थी।
  • मुख्यालय नैरोबी(केन्या) में हैं।
  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम का गठन संयुक्त राष्ट्र महासभा की स्वीडन में मानव पर्यावरण पर हुई कांफ्रेंस के परिणाम स्वरुप हुआ था।
  • यह अंतर सरकारी संस्था है।
  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम पर्यावरणीय परियोजनाओं को आर्थिक सहायता प्रदान करता हैं।
  • पहला विश्व पर्यावरण दिवस 1973 में मनाया गया था।
  • 5 जून को हर वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस यूनेप के द्वारा मनाया जाता हैं।
  • संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के द्वारा ग्लोबल 500 पुरस्कार भी दिया जाता हैं।

2. अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (International Union for Conservation of Nature, IUCN)

IUCN

प्रमुख व्यक्ति –जूलिया मार्टन-लेफेव्रे, अशोक खोसला

  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ की स्थापना अक्टूबर 1958 में हुई थी।
  • इसका मुख्यालय ग्लाण्ड स्विट्जरलैंड में हैं।
  • यह विश्व का सबसे पुराना एवं सबसे बड़ा  वैश्विक पर्यावरण नेटवर्क हैं।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ संयुक्त राष्ट्र महासभा का पर्यवेक्षक दर्जा प्राप्त एक मात्र अंतरराष्ट्रीय संगठन है जो पर्यावरण और जैव विविधता से संबंधित मुद्दों को देखता है पर यह संयुक्त राष्ट्र का अंग नहीं है।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ में सरकारी संगठन और गैर सरकारी संगठन होते है।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ वैज्ञानिक शोध का समर्थन करता है और जैव विविधता का संरक्षण और  पर्यावरण एवं विकास से जुड़ी चुनौतियां व समाधान निकालने का प्रयास करता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ संकटग्रस्त जीव जंतुओं की सूची भी जारी करता है जिसे रेड डाटा बुक कहते हैं।
  • अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ इन सब के अलावा आजीविका,जलवायु परिवर्तन, हरित अर्थव्यवस्था, संपोषणीय उर्जा आदि कार्य करता है।

 

3. वर्ल्ड वाइल्ड लाइफ फंड (World Wildlife Fund) (स्लोगन फॉर ए लिविंग प्लेनेट)

wwf-logo

MottoBuilding a future in which people live in harmony with nature

  • इसकी स्थापना 1961 में चेरिटेबल ट्रस्ट के रूप में स्विट्ज़रलैंड में हुई थी।
  • यह एक अंतराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन है।
  • पर्यावरण के संरक्षण, शोध एवं पुनर्स्थापना के कार्य के लिए या फिर से का सबसे बड़ा स्वतंत्र संरक्षण संगठन हैं।
  • यह एक प्रकार का कोष है।
  • भारत में भी WWF India का मुख्यालय दिल्ली मे है।
  • वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड का मुख्य कार्य वन, अलवरण जलीय परितंत्र, महासागर एवं तट के संरक्षण पर केंद्रित है।

4. वन्य जीव और वनस्पति की लुप्तप्राय प्रजातियों के अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन (The Convention on International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora / Washington Convention)

CITES

Secretary-General of the CITES Secretariat is John E. Scanlon (2017).

  • इसे वाशिंगटन कन्वेंशन भी कहा जाता है क्योंकि इसका पहला कन्वेंशन वाशिंगटन में हुआ था मार्च 1973।
  • यह सरकारों के बीच एक अंतरराष्ट्रीय समझौता है ।जंगली जानवरों और पौधों का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार सुनिश्चित करना और इनके अस्तित्व संकट में पैदा हो इसका मुख्य कार्य है।
  • भारत इसका सदस्य 1976 से हैं।
  • परिशिष्ट 1— यहां उन पर जातियों को शामिल किया जाता है जिनका अस्तित्व संकटग्रस्त स्थिति में है। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर पूर्ण प्रतिबंध लगा होता है।
  • परिशिष्ट 2— यहां उन पर जातियों को शामिल किया जाता है जिनका अस्तित्व आवश्यक रूप से संकटग्रस्त स्थिति में तो नहीं है लेकिन प्रजातियां के अस्तित्व के लिए व्यापार पर नियंत्रण किया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की अनुमति है लेकिन विनियमन के साथ।
  • परिशिष्ट 3— यहां उन पर जातियों को शामिल किया जाता है जो कम से कम किसी एक देश द्वारा संरक्षित की गई हो। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की अनुमति है लेकिन विनियमन के साथ।

5. प्रवासी जंगली प्रजातियों के संरक्षण पर सम्मेलन (The Convention on the Conservation of Migratory Species of Wild Animals / Bonn Convention) 

Bonn Convention

Headquarters– Bonn, Germany

  • इसे बोन सम्मेलन भी कहा जाता है।
  • यह संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम UNEP के संरक्षण में कार्य करती है।
  • यह सम्मेलन सभी प्रकार के प्रवासी पशु पक्षियों कोे संरक्षण प्रदान करते है। प्रवासी पशु पक्षियों के संरक्षण के लिए यह पहला और एकमात्र वैश्विक समझौता है।
  • परिशिष्ट 1— इसमें जिन प्रवासी प्रजातियों पर विलुप्त होने का खतरा है उन्हें इसमें रखा जाता है।
  • परिशिष्ट 2— इसमें उन प्रवाह जीवों की सूची होती है जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के माध्यम से लाभ पहुंचाया जा सकता है।

6. वन्यजीव तस्करी के विरुद्ध गठबंधन  (Coalition Against Wildlife Trafficking)

cawt

  • इसकी स्थापना 2005 में की गई थी।
  • इसमें सरकारी और गैर सरकारी सहभागियों शामिल किया जाता है।
  • यह सीधे भाग लेने के बजाय यह प्रशिक्षण और सूचनाओं के आदान-प्रदान पर बल देता है।
  • यह संकटग्रस्त प्रजातियों के अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर सम्मेलन (साइट्स) जैसी संस्थाओं को भी सहायता प्रदान करता है।

7. अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय कास्ठ संगठन  (International Tropical Timber Organization)

itto

Headquarters– Yokohama, Japan

  • यह एक अंतर सरकारी संगठन है जिसकी स्थापना 1986 में संयुक्त राष्ट्र के द्वारा की गई थी।
  • इसका कार्य उष्णकटिबंधीय वन संसाधनों के संरक्षण और उनके सतत उपयोग को बढ़ावा देना है।
  • यह वन उत्पादों और व्यापार से संबंधित आंकड़ों को एकत्र करता है और उसका विश्लेषण कर उसे प्रचारित करता है।

8. अंतर्राष्ट्रीय जल प्रबंधन संस्थान  (International Water Management Institute)

IMWI

RemarksIWMI won the 2012 Stockholm Water Prize Laureate.

  • इसकी स्थापना 1985 में की गई थी।
  • इसका मुख्यालय कोलंबो श्रीलंका में है।
  • यह एक गैर सरकारी वैज्ञानिक शोध संगठन तथा गैर लाभकारी संस्था है।
  • इसका कार्य विकासशील देशों में जल और भूमि संसाधनों के सतत उपयोग को बढ़ावा देना है।
  • इसका उद्देश्य खाद्य सुरक्षा, बेहतर वातावरण के लिए क्षेत्रवार सतत जल प्रबंधन, लोगों को आजीविका और भूमि उपयोग से संबंधित समस्याओं का समाधान करना है।
  • इसने अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एक कार्य योजना बनाई है जिससे ‘रणनीति 2014-2018’ कहां जाता है जिसका शीर्षक है- ‘जल सुरक्षित संसार’ Water secure World।
  • सतत विकास लक्ष्य (SDG) में उल्लिखित गरीबी व भुखमरी को कम करने तथा सतत पर्यावरण को बनाए रखने में भी अपना योगदान प्रदान करता है।
  • यह अंतर राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान केंद्र पर सहायता संघ का भी सदस्य है जो भविष्य में खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सबसे बड़ा शोध संगठन है।

9. यूनाइटेड नेशन फोरम ऑन फारेस्ट (The United Nations Forum on Forests, UNFF)

          unff

  • इसकी स्थापना अक्टूबर 2000 में हुआ था।
  • इसका गठन संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक सामाजिक परिषद( ECOSOC ) ने एक सहायक निकाय के रूप में किया था।
  • यह सतत विकास पर ‘जोहांसबर्ग घोषणापत्र‘ और ‘सतत विकास लक्ष्य’ की प्राप्ति में वनों की भागीदारी को बढ़ाता है।
  • इसका वार्षिक सम्मेलन हर 2 वर्ष में होता है।
  • इसका मुख्य उद्देश्य वनों के संरक्षण, प्रबंधन और सतत विकास को बढ़ावा देना है ( जैसे रियो घोषणा पत्र, वन सिद्धांत, एजेंडा 21 अध्याय 11 और वन से संबंधित विभिन्न अंतरराष्ट्रीय पैनल की नीतियां आदि )

10. ट्रैफिक (वन्य जीव व्यापार निगरानी नेटवर्क) The wildlife trade monitoring network (TRAFFIC)

traffic

  • इसकी स्थापना 1976 में की गई थी।
  • यह एक गैर सरकारी वैश्विक नेटवर्क है।
  • इसका कार्य वन्यजीवों और पौधों के व्यापार पर निगरानी रखना है तथा उसके उचित प्रबंधन पर बल देना है।
  • ट्रैफिक का 2020 लक्ष्य जैव विविधता पर वन्यजीवों के अवैध और गैर संपोषणीय व्यापार से पड़ने वाले दबाव को कम कर वन्य जीव संरक्षण से मिलने वाले सतत लाभों में वृद्धि करना है।
  • नेटवर्क आईयूसीएन और WWF का संयुक्त संरक्षण कार्यक्रम है।

11. बर्ड लाइफ इंटरनेशनल  (BirdLife International)

logo

MottoPartnership for Nature and People

Headquarters– Cambridge, United Kingdom

  • इसकी स्थापना 1922 में हुई थी।
  • इसका कार्य पक्षियों और उनके आवासों के संरक्षण का प्रयास कर वैश्विक जैव विविधता को बनाए रखना है।
  • प्रकृति और लोगों के बीच परस्पर साझेदारी पर बल भी देता है।
  • यह महत्वपूर्ण पक्षी और जैव विविधता क्षेत्र की पहचान कर उन की निगरानी और संरक्षण का कार्य भी करता है।
  • यह प्रकृति संरक्षण साझेदारी का सबसे बड़ा और पुराना वैश्विक संगठन है।

12. वर्ल्ड नेचर ऑर्गनाइजेशन (World Nature Organization)

WNO

Location– Geneva, Switzerland; Liechtenstein (interim offices)

  • इसकी स्थापना मई 2014 में की गई थी।
  • यह वैश्विक स्तर पर पर्यावरण संरक्षण से संबंधित अपनी तरह का पहला अंतर सरकारी संगठन है।
  • यह ऑर्गनाइजेशन विश्व के विभिन्न सरकारों और संगठनों को एकजुट करने का प्रयास करता है।
  • यह ऑर्गनाइजेशन पर्यावरण अनुकूल तकनीकी, अक्षय ऊर्जा, प्राकृतिक पर्यावरण का संरक्षण, हरित अर्थव्यवस्था, संसाधनों के संरक्षण के माध्यम से सतत विकास को बढ़ावा देता है।

13. वर्ल्डवाच इंस्टिट्यूट  (The Worldwatch Institute)

WWI

Based in Washington, D.C

  • यह एक स्वतंत्र शोध संस्था है जिसकी स्थापना 1974 में लेस्टर ब्राउन द्वारा की गई थी।
  • पर्यावरण संबंधी समस्याओं की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करती है तथा उसका व्यावहारिक समाधान में प्रस्तुत करती है।
  • सतत विकास के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए इसके द्वारा किए गए अन्य कार्य– खाद्य और कृषि, जलवायु और ऊर्जा, पर्यावरण और समाज।
  • वर्ल्डवाच के प्राथमिकता कार्यक्रम में शामिल हैं:- एक कम कार्बन ऊर्जा प्रणाली का निर्माण, पौधा पौष्टिक, ट्रांसफ़ॉर्मिंग इकोनॉमीज, कल्चर और सोसाइटीज।

 

14. वर्ल्ड रिसोर्सेस इंस्टिट्यूट  (World Resources Institute)

WRI

Headquarters– Washington, D.C.

  • इसकी स्थापना 1982 में की गई थी।
  • यह एक स्वतंत्र वैश्विक गैर सरकारी संस्था है।
  • इसका मुख्य उद्देश्य मानवीय जीवन को सुरक्षित रखने के लिए बदलते पर्यावरण को धारणीय विकास से जोड़ना है।
  • यह संस्था आंकड़ों के संग्रहण, शोध तथा रणनीतियों की माप करती है।
  • इसके 6 महत्वपूर्ण लक्ष्य:– भोजन, ऊर्जा, जल, वन, जलवायु, संपोषणीय शहर।

 

 

 

15. वर्ल्ड कंजर्वेशन मॉनिटरिंग सेंटर  (The UN Environment World Conservation Monitoring Centre)

UNEP WC

Based in Cambridge in the United Kingdom.

  • यह एक गैर लाभकारी संस्था है।
  • इसका मुख्य कार्य जैव विविधता से संबंधित सूचनाओं का एकत्रण व इनका आकलन प्रस्तुत करना है।
  • यूनेप (UNEP) कि यह एक कार्यकारी एजेंसी है।
  • यह राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जैव विविधता संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों का समर्थन करती है।
  • इसका मुख्य कारण जैव विविधता के प्रमाणित आंकड़ों को नीति-निर्माताओं के समक्ष रखना।

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s