GS-2 (Mains), Indian Judiciary, Mains-2018 (English)

Indian Judiciary – Issues faced & Possible Suggestions

The Supreme Court (SC) is considered as the ultimate interpreter of the constitution. In India, there is a single integrated judicial system organized in pyramidal form. At the apex of the entire judicial system stands the Supreme Court of India. Immediately below the SC are the various High Courts and below them are be subordinate… Continue reading Indian Judiciary – Issues faced & Possible Suggestions

Advertisements
GS-2 (Mains), Indian Judiciary, Mains-2018 (Hindi)

वाणिज्यिक कोर्ट – महत्व और चुनौतियां

वाणिज्यिक अदालत क्या है? -> वाणिज्यिक न्यायालय व्यापक पैमाने पर विवादों को 'वाणिज्यिक विवाद' के दायरे के भीतर ही कवर करने का प्रयास करता हैं। -> परिभाषा मोटे तौर पर व्यापारियों, बैंकरों, फाइनेंसरों और व्यापारियों जैसे व्यापारिक दस्तावेजों, निर्यात और मर्चेंडाइज या सेवा, नौसेना और समुद्री कानून, विमान से संबंधित लेनदेन आदि के साधारण लेनदेन… Continue reading वाणिज्यिक कोर्ट – महत्व और चुनौतियां

GS-2 (Mains), Indian Judiciary, Mains-2018 (English)

Tribunals in India – The Examination Perspective

  Tribunals in India are specialised courts (other than formal judiciary), established under statute for dealing with disputes relating to particular kind of law. Unlike regular courts therefore, a tribunal will only hear cases it specializes in. For example, National Green Tribunal (NGT) hears the cases relating to environmental issues. In general sense, the ‘tribunals’… Continue reading Tribunals in India – The Examination Perspective

GS-2 (Mains), Indian Judiciary, Mains-2018 (Hindi)

भारतीय न्यायपालिका के सामने आने वाली समस्याएं

न्यायपालिका किसी भी जनतंत्र के तीन प्रमुख अंगों में से एक है। अन्य दो अंग हैं - कार्यपालिका और व्यवस्थापिका। न्यायपालिका, संप्रभुतासम्पन्न राज्य की तरफ से कानून का सही अर्थ निकालती है एवं कानून के अनुसार न चलने वालों को दण्डित करती है। इन दिनों भारतीय न्यायपालिका लगातार अनेक हमलों का सामना कर रहा है जो नीचे… Continue reading भारतीय न्यायपालिका के सामने आने वाली समस्याएं